भुगतान और निपटान प्रणाली

अर्थव्‍यवस्‍था की समग्र दक्षता में सुधार करने में भुगतान और निपटान प्रणाली महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसके अंतर्गत राशि-मुद्रा, चेकों जैसी कागज़ी लिखतों के सुव्‍यवस्थित अंतरण और विभिन्‍न इलेक्‍ट्रॉनिक माध्‍यमों के लिए विभिन्‍न प्रकार की व्‍यवस्‍थाएं हैं।

अधिसूचनाएं


भारत बिल भुगतान प्रणाली – दिशानिर्देशों में संशोधन
भा.रि.बैंक/2022-2023/58
CO.DPSS.POLC.No.S-253/02-27-020/2022-23

26 मई 2022

अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक/मुख्य कार्यकारी अधिकारी
एनपीसीआई भारत बिलपे लिमिटेड / भारत बिल भुगतान प्रणाली प्रदाता /
प्रतिभागी और संभावित भारत बिल भुगतान परिचालन इकाइयां

महोदय/ प्रिय महोदय,

भारत बिल भुगतान प्रणाली – दिशानिर्देशों में संशोधन

यह भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा जारी 28 नवंबर 2014 के परिपत्र डीपीएसएस.सीओ.पीडी.सं.940/02.27.020/2014-2015 के तहत भारत बिल भुगतान प्रणाली (बीबीपीएस) पर दिशानिर्देशों के संदर्भ में है। 08 अप्रैल 2022 के विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर वक्तव्य में घोषित, गैर-बैंक भारत बिल भुगतान परिचालन इकाइयों (बीबीपीओयू) के लिए न्यूनतम निवल मालियत की आवश्यकता को घटाकर 25 करोड़ कर दिया गया है। बीबीपीएस दिशानिर्देश उपयुक्त रूप से संशोधित किए गए हैं।

2. यह परिपत्र भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम, 2007 (2007 का अधिनियम 51) की धारा 18 के साथ पठित धारा 10 (2) के अंतर्गत जारी किया गया है, और तत्काल प्रभाव से लागू होगा।

भवदीय,

(पी. वासुदेवन)
मुख्य महाप्रबंधक

2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख

© भारतीय रिज़र्व बैंक । सर्वाधिकार सुरक्षित

दावा अस्‍वीकरणकहाँ क्‍या है |