भुगतान और निपटान प्रणाली

अर्थव्‍यवस्‍था की समग्र दक्षता में सुधार करने में भुगतान और निपटान प्रणाली महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसके अंतर्गत राशि-मुद्रा, चेकों जैसी कागज़ी लिखतों के सुव्‍यवस्थित अंतरण और विभिन्‍न इलेक्‍ट्रॉनिक माध्‍यमों के लिए विभिन्‍न प्रकार की व्‍यवस्‍थाएं हैं।

अधिसूचनाएं


गैर-बैंक पीएसओ के नियंत्रण के अधिग्रहण/टेकओवर और गैर-बैंक पीएसओ की भुगतान प्रणाली गतिविधि की बिक्री/हस्तांतरण के मामले में पूर्व स्वीकृति प्राप्त करने की आवश्यकता

आरबीआई/2022-23/80
केका.डीपीएसएस.नीति.सं.एस-590/02-14-006/2022-23

04 जुलाई 2022

अध्यक्ष/प्रबंध निदेशक/मुख्य कार्यकारी अधिकारी
बैंक और गैर-बैंक भुगतान प्रणाली परिचालक (पीएसओ)

महोदया / प्रिय महोदय,

गैर-बैंक पीएसओ के नियंत्रण के अधिग्रहण/टेकओवर और गैर-बैंक पीएसओ की भुगतान प्रणाली गतिविधि की बिक्री/हस्तांतरण के मामले में पूर्व स्वीकृति प्राप्त करने की आवश्यकता

भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) के 27 अगस्त 2021 के प्रीपेड भुगतान लिखतों पर मास्टर निदेश के पैराग्राफ 5.10, दिनांक 17 मार्च 2020 के भुगतान एग्रीगेटर्स और भुगतान गेटवे के विनियमन पर दिशानिर्देश के पैराग्राफ 5.2 और 20 जून 2012 के व्हाइट लेबल एटीएम दिशानिर्देशों के अनुबंध-ए के पैराग्राफ 3.1 में निहित निर्देशों का संदर्भ लें।

2. गैर-बैंक पीएसओ (किसी भी भुगतान प्रणाली को परिचालन करने के लिए अधिकृत) के परिचालन की समीक्षा की गई है और उन्हें निम्नलिखित मामलों में आरबीआई के पूर्व अनुमोदन की आवश्यकता होगी –

क. टेकओवर/ नियंत्रण का अधिग्रहण, जिसके परिणामस्वरूप प्रबंधन में परिवर्तन हो सकता है / नहीं हो सकता है।

ख. एक ऐसी संस्था को भुगतान गतिविधि की बिक्री/हस्तांतरण जो समान गतिविधि करने के लिए अधिकृत नहीं है।

3. गैर-बैंक पीएसओ निम्नलिखित मामलों में 15 कैलेंडर दिनों के भीतर आरबीआई को सूचित करेंगे –

क. प्रबंधन / निदेशकों में परिवर्तन।

ख. समान गतिविधि करने के लिए अधिकृत किसी संस्था को भुगतान गतिविधि की बिक्री/हस्तांतरण।

4. आवश्यकताओं का विवरण अनुबंध-1 में दिया गया है।

5. यह निदेश भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम, 2007 (2007 का अधिनियम 51) की धारा 18 के साथ पठित धारा 10 (2) के अंतर्गत जारी किया गया है।

भवदीय,

(पी. वासुदेवन)
मुख्य महाप्रबंधक


अनुबंध-1

सीओ.डीपीएसएस.पीओएलसी.सं.एस-590/02-14-006/2022-23 दिनांक 04 जुलाई 2022

1. गैर-बैंक पीएसओ को निम्नलिखित मामलों में आरबीआई के पूर्वानुमोदन की आवश्यकता होगी:

क. अधिग्रहण / नियंत्रण1 का अधिग्रहण, जिसके परिणामस्वरूप प्रबंधन में परिवर्तन हो भी सकता है और नहीं भी

हस्तांतरणकर्ता गैर-बैंक पीएसओ निम्नलिखित दस्तावेजों के साथ भुगतान और निपटान प्रणाली विभाग (डीपीएसएस), केंद्रीय कार्यालय (केका), आरबीआई को एक आवेदन प्रस्तुत करेगा –

  1. अनुबंध-2 के अनुसार प्रस्तावित निदेशकों के बारे में जानकारी; तथा

  2. अनुबंध-3 के अनुसार नए शेयरधारकों आदि के बारे में पूर्ण विवरण।

ख. एक ऐसी संस्था को भुगतान गतिविधि की बिक्री/हस्तांतरण जो समान गतिविधि करने के लिए अधिकृत नहीं है

  1. विक्रेता / हस्तांतरणकर्ता गैर-बैंक पीएसओ न्यूनतम उपयुक्त विवरण के साथ पूर्व अनुमोदन प्राप्त करने के लिए डीपीएसएस, केका, आरबीआई को आवेदन करेगा।

  2. खरीदार/हस्तांतरिती संस्था आवश्यक आवेदन शुल्क के साथ भुगतान और निपटान प्रणाली विनियम, 2008 के विनियम 3(2) के तहत निर्धारित प्रपत्र ए (आरबीआई की वेबसाइट पर उपलब्ध) में प्राधिकरण के लिए आवेदन करेगी। यह एक नए प्राधिकरण के समान होगा और संबंधित भुगतान गतिविधि के लिए दिशानिर्देशों में निर्दिष्ट प्रक्रिया लागू होगी (सिवाय इसके कि अंतिम उपलब्ध सिस्टम ऑडिट रिपोर्ट एक नई प्रणाली की स्थापना नहीं होने की स्थिति में पर्याप्त होगी)।

  3. यदि अधिग्रहण करने वाली संस्था एक बैंक है, तो यह अनुमोदन के लिए डीपीएसएस, केका, आरबीआई को आवेदन करेगी।

  4. प्राधिकरण प्रमाणपत्र (सीओए)/अनुमोदन प्राप्त करने के बाद, बिक्री/हस्तांतरण की कार्यवाही की जा सकती है।

  5. विक्रेता / हस्तांतरणकर्ता पीएसओ स्वेच्छा से 12 मई 2016 के आरबीआई परिपत्र डीपीएसएस.सीओ.एडी.सं.2627/02.27.005/2015-16 में उल्लिखित प्रक्रिया के अनुसार अपना सीओए अभ्यर्पण करेगा। खरीदार / अंतरिती बैंक / गैर -बैंक बिक्री / हस्तांतरण से पहले की अवधि के लिए आरबीआई द्वारा की गई किसी भी नियामक / पर्यवेक्षी कार्रवाई के अनुपालन के लिए उत्तरदायी होगा।

2. आरबीआई, दोनों संस्थाओं से पूर्ण विवरण प्राप्त होने के बाद 45 कैलेंडर दिनों के भीतर जवाब देने का प्रयास करेगा। धन हस्तांतरण सर्विस स्कीम में ओवरसीज प्रिंसिपल के मामले में समयावधि लागू नहीं है।

3. पूर्व सार्वजनिक सूचना की आवश्यकता

  1. आरबीआई की मंजूरी प्राप्त करने के बाद, परिवर्तनों को प्रभावी करने से पहले कम से कम 15 कैलेंडर दिनों की सार्वजनिक सूचना दी जानी चाहिए। ऐसी सार्वजनिक सूचना या तो अधिकृत गैर-बैंक पीएसओ और खरीदार/अधिग्रहणकर्ता बैंक/गैर-बैंक द्वारा या उनके द्वारा संयुक्त रूप से दी जाएगी। सार्वजनिक नोटिस में ऐसे परिवर्तनों के इरादे और कारणों, संबंधित संस्थाओं के विवरण आदि का उल्लेख होगा। नोटिस कम से कम एक प्रमुख राष्ट्रीय और एक प्रमुख स्थानीय समाचार पत्र (संबंधित संस्थाओं के पंजीकृत कार्यालय के स्थान को कवर करते हुए) में प्रकाशित किया जाएगा।)

  2. विक्रेता / अंतरणकर्ता गैर-बैंक पीएसओ सभी हितधारकों (एजेंटों, बैंकरों, ग्राहकों, व्यापारियों, आदि) को परिवर्तनों को भी लागू करने से कम से कम 15 कैलेंडर दिन पहले सूचित करेगा।

4. प्राधिकृत गैर-बैंक पीएसओ निम्नलिखित मामलों में 15 कैलेंडर दिनों के भीतर डीपीएसएस, केका, आरबीआई को सूचित करेगा –

  1. नए निदेशकों में से प्रत्येक द्वारा 'घोषणा और वचनबध्दता' (अनुबंध-2) सहित पूर्ण विवरण के साथ प्रबंधन / निदेशकों में परिवर्तन। आरबीआई प्रबंधन / निदेशकों की उपयुक्त और उचित स्थिति की जांच करेगा, और यदि आवश्यक हो, तो उपयुक्त प्रतिबंध लगा सकता है।

  2. इसी तरह की गतिविधि करने के लिए आरबीआई द्वारा अधिकृत किसी संस्था को भुगतान गतिविधि की बिक्री/हस्तांतरण। संस्थाएं पूर्व सार्वजनिक नोटिस जारी करेंगी और विक्रेता/अंतरणकर्ता गैर-बैंक पीएसओ भी उपरोक्त पैरा 3 में दिए गए विवरण के अनुसार वास्तविक बिक्री/हस्तांतरण से कम से कम 15 कैलेंडर दिन पहले सभी हितधारकों को सूचित करेंगे (सिवाय इसके कि इस उद्देश्य के लिए आरबीआई के पूर्व अनुमोदन की आवश्यकता नहीं है)। ऊपर पैरा 1(बी)(वी) में उल्लिखित निर्देश लागू होंगे।

5. उपरोक्त निर्देश इसके अतिरिक्त वर्तमान में लागू किसी भी अन्य कानूनों, नियमों, विनियमों या निर्देशों के प्रावधानों के उल्लंघन में नहीं हैं।


अनुबंध-2

निदेशकों में परिवर्तन के मामले में प्रस्तुत की जाने वाली सूचना

क. निदेशक द्वारा घोषणा और वचनबद्धता

(संलग्नक के साथ जैसा कि …………… को उपयुक्त है)

(गैर-बैंक पीएसओ द्वारा डीपीएसएस, केका, आरबीआई, मुंबई को प्रस्तुत किया जाना है)

आवेदक कंपनी/गैर-बैंक पीएसओ का नाम:

I   निदेशक का व्यक्तिगत विवरण
  पूरा नाम  
  जन्म की तारीख  
  शैक्षिक योग्यता  
  पृष्ठभूमि और प्रासंगिक अनुभव  
  स्थायी पता  
  वर्तमान पता  
  निदेशक पहचान संख्या (अनिवार्य)  
  ई-मेल पता / टेलीफोन नंबर  
  आयकर अधिनियम के तहत स्थायी खाता संख्या और आयकर मंडल का नाम और पता  
  कंपनी के निदेशक पद के लिए प्रासंगिक कोई अन्य जानकारी  
  कंपनी में निदेशक के बाद से (पिछले विवरण भी टूटी हुई अवधि के मामले में)  
  क) कंपनी में धारित शेयरों की संख्या
ख) शामिल राशि (कंपनी में धारित शेयरों का अंकित मूल्य में)
 
II   निदेशक के प्रासंगिक संबंध
  रिश्तेदारों की सूची यदि कोई हो जो कंपनी से जुड़ा हो (कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 2 (77) देखें)  
  संस्थाओं की सूची, यदि कोई हो, जिसमें उसे रुचि दिखाई है (अन्य निदेशक पद)  
  उन संस्थाओं की सूची जिनमें उसे सारभूत रुचि रखने वाला माना जाता है  
  मामले, यदि कोई हों, जहां ऊपर II (बी) और (सी) में सूचीबद्ध निदेशक या संस्थाएं बैंक या गैर-बैंक से प्राप्त क्रेडिट सुविधाओं के संबंध में चूक में हैं या पिछले पांच वर्षों में चूक हुई हैं।  
III   के क्षेत्रों में कुछ प्रमुख व्यावसायिक उपलब्धियों का विवरण
  • प्रौद्योगिकी और भुगतान प्रणाली / लेनदेन
  • मानव संसाधन प्रबंधन / कानूनी
  • लेखा और वित्त
 
IV   निदेशक के विरुद्ध कार्यवाही, यदि कोई हो
  यदि निदेशक एक पेशेवर संघ/निकाय का सदस्य है, तो अनुशासनात्मक कार्रवाई का विवरण, यदि कोई हो, लंबित या शुरू हो गया है या जिसके परिणामस्वरूप उसके खिलाफ अतीत में दोष सिद्ध हुआ है या क्या उसे किसी भी समय किसी पेशे/व्यवसाय में प्रवेश करने से प्रतिबंधित किया गया है।  
  आर्थिक कानूनों और विनियमों और संबंधित देश के समान सांविधिक प्रावधानों के उल्लंघन के लिए उसके / उसके और / या ऊपर II (बी) में सूचीबद्ध किसी भी संस्था के खिलाफ अतीत में लंबित या शुरू होने या उसके खिलाफ दोषी ठहराए गए अभियोजन का विवरण, यदि कोई हो।  
  आपराधिक अभियोजन का विवरण, यदि कोई हो, लंबित या शुरू हुआ या जिसके परिणामस्वरूप उसके खिलाफ अतीत में दोष सिद्ध हुआ हो।  
  क्या वह कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 164 और संबंधित देश के समान सांविधिक प्रावधान के तहत परिकल्पित किसी भी अयोग्यता को आकर्षित करती है?  
  क्या वह / वह या ऊपर II (बी) और (सी) में से कोई भी संस्था सरकारी विभाग या एजेंसी के कहने पर किसी जांच के अधीन है? यदि हां, तो विवरण दें।  
  क्या वह किसी भी समय सीमा शुल्क / उत्पाद शुल्क / आयकर / विदेशी मुद्रा / अन्य राजस्व अधिकारियों द्वारा नियमों / विनियमों / विधायी आवश्यकताओं के उल्लंघन का दोषी पाया गया है? यदि हां, तो विवरण दें।  
  क्या वह किसी भी समय सेबी, आरबीआई, आईआरडीए, एमसीए आदि जैसे नियामकों के प्रतिकूल नोटिस में आती है।  
  क्या उसका / उसका नाम क्रिसिल द्वारा प्रकाशित डिफॉल्टरों की सूची में अतीत में किसी भी समय प्रकट होता है या दिखाई देता है या क्या वह उन संस्थाओं के साथ गारंटर / निदेशक के रूप में जुड़ा हुआ है जो डिफ़ॉल्ट हैं।  
V   मद I से IV के संबंध में कोई अन्य स्पष्टीकरण/सूचना तथा निदेशक की उपयुक्त और उचित स्थिति का निर्धारण करने के लिए प्रासंगिक मानी जाने वाली अन्य जानकारी।  
       
    वचनबद्धता
    मैं पुष्टि करता हूँ कि उपरोक्त जानकारी मेरे सर्वोत्तम ज्ञान और विश्वास के अनुसार सत्य और पूर्ण है। मैं वचन देता हूं कि मेरी नियुक्ति के बाद होने वाली सभी घटनाओं और जो ऊपर दी गई जानकारी के लिए प्रासंगिक हैं, के बारे में कंपनी को यथाशीघ्र सूचित करने का वचन देता हूं।
    स्थान:  
    दिनांक: निदेशक के हस्ताक्षर

ख. उन संस्थाओं की सूची के संबंध में जिनमें निदेशक को दिलचस्पी (अन्य निदेशक के रूप में) माना जाता है और ऐसी संस्थाएं जिनमें उन्हें सारभूत हित रखने वाला माना जाता है (निदेशक द्वारा घोषणा और वचनबध्दता की II-बी और II-सी), निम्नलिखित विवरण प्रस्तुत करने की आवश्यकता है:

क) क्या संस्था को किसी वित्तीय नियामक यानी आरबीआई, सेबी, आईआरडीएआई या पीएफआरडीए द्वारा विनियमित किया जा रहा है; तथा

ख) यदि हां, तो संबंधित वित्तीय नियामक द्वारा पैन नंबर के साथ दिया गया पंजीकरण/लाइसेंस नंबर।


अनुबंध-3

शेयरधारिता में परिवर्तन के मामले में प्रस्तुत की जाने वाली सूचना

1) नए शेयरधारकों की विस्तृत रूपरेखा। भुगतान प्रणाली में गैर-बैंक पीएसओ के साथ नए शेयरधारक कैसे जुड़ेंगे? यदि वर्तमान भुगतान प्रणाली में कोई परिवर्तन होता है तो उसे भी प्रस्तुत किया जा सकता है।

2) क्या नए शेयरधारकों ने पहले भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम, 2007 (पीएसएस अधिनियम) के तहत प्राधिकरण के लिए आवेदन किया है और मना कर दिया है? या, क्या वर्तमान में पीएसएस अधिनियम के तहत नए शेयरधारकों का कोई आवेदन लंबित है?

3) भुगतान प्रणाली क्षेत्र में नए शेयरधारकों का पिछला अनुभव। किसी भी अधिकृत भुगतान प्रणाली ऑपरेटर के साथ टाई-अप और/या सह-ब्रांडिंग व्यवस्था के तहत मौजूदा परिचालन का विवरण।

4) गैर-बैंक पीएसओ में शेयर प्राप्त करने वाले प्रस्तावित शेयरधारकों के धन के स्रोत:

  1. निवेश के लिए प्रस्तावित स्वयं की पूंजी की राशि;

  2. बैंकों से अपेक्षित उधार की राशि; तथा

  3. बैंकों के अलावा अन्य स्रोतों से अपेक्षित उधार की राशि (स्रोतों का उल्लेख किया जा सकता है)।

5) आवेदक अपने निवेश की वसूली और आय अर्जित करने का प्रस्ताव कैसे करता है, अर्थात, चाहे वह नकदी प्रवाह के माध्यम से हो या कार्यग्रहण शुल्क, सुरक्षा शुल्क, वार्षिक / परिचालन शुल्क आदि लगाकर (कृपया पूर्ण विवरण दें)?

6) प्रस्तावित शेयरधारिता* पैटर्न, अधिग्रहण के बाद/टेकओवर/ अधिकृत पीएसओ (प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष) की शेयरधारिता में परिवर्तन निम्नलिखित प्रारूप में प्रदान किया जाएगा:

क्र.सं. शेयरधारक का नाम शेयरधारिता प्रतिशत (5% या अधिक) पंजीकरण का देश / राष्ट्रीयता
       
       

* सार्वजनिक शेयरहिल्डिंग सहित घरेलू शेयरधारिता और विदेशी शेयरधारिता। 5% से कम शेयरधारिता वाले निवेशकों का उल्लेख 'अन्य' के रूप में किया जा सकता है और 'अन्य' द्वारा संचयी शेयरधारिता प्रदान की जाएगी। यदि आवश्यक हो, तो हम बाद के चरण में इसके बारे में अधिक जानकारी मांग सकते हैं।

7) यदि नए शेयरधारक विदेशी शेयरधारक हैं, तो भारतीय रिजर्व बैंक के परिपत्र केका.डीपीएसएस.प्राधि.सं.S190/02.27.005/2021-22 दिनांक 14 जून 2021 'एफएटीएफ गैर-अनुपालन क्षेत्राधिकारों से संस्थाओं में निवेश' का अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा और निम्नलिखित विवरण प्रस्तुत किए जाएंगे:

  1. गैर-बैंक पीएसओ में विदेशी शेयरधारिता या प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) का पूरा विवरण;

  2. विदेशी मुद्रा विभाग से पावती / स्वीकृति / अन्य विवरण की प्रतिलिपि निर्धारित रिटर्न और प्रेषण / निधि प्रवाह, शेयर आवंटन, शेयर मूल्यांकन, आदि पर रिपोर्टिंग; तथा

  3. कंपनी में एफडीआई के संबंध में 'लाभकारी स्वामित्व' का विवरण। विदेशी निवेशकों और कंपनी में परिणामी अंतिम लाभकारी मालिकों की विस्तृत प्रोफ़ाइल, अन्य बातों के साथ, पंजीकरण का देश, पंजीकरण का विवरण, व्यावसायिक गतिविधि की प्रकृति, क्षेत्र में कार्य करने का अनुभव, इसके निदेशकों / प्रबंधन का विवरण, इसके विवरण शेयरधारिता/स्वामित्व, भारत में किसी अन्य कंपनी में निवेश और उसका विवरण, निदेशकों और शेयरधारकों की राष्ट्रीयता आदि।

8) इसके अतिरिक्त, गैर-बैंक पीएसओ द्वारा 'समूह संरचना' का एक विस्तृत चार्ट प्रस्तुत किया जाएगा। आगे, इस संबंध में,

a) पीएसओ अपनी संरचना में संस्थाओं की पहचान करेगा, जो हैं –

  1. सूचीबद्ध (घरेलू / विदेशी, स्टॉक एक्सचेंज के नाम के साथ);

  2. वित्तीय क्षेत्र के नियामक द्वारा विनियमित (घरेलू / विदेशी, नियामक के नाम के साथ); तथा

  3. न तो सूचीबद्ध और न ही विनियमित।

b) नैचुरल व्यक्तियों के मामले में, पीएसओ राष्ट्रीयता और वर्तमान आवासीय स्थिति का उल्लेख करेगा।

9) कोई अन्य जानकारी जो आवेदक देना चाहता है।


1 इन निर्देशों के लिए, "नियंत्रण" का वही अर्थ होगा जो भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (शेयरों का पर्याप्त अधिग्रहण और अधिग्रहण) विनियम, 2011 के उप-विनियम (1) के खंड (ई) के तहत दिया गया है। जैसा कि समय-समय पर संशोधित किया जाता है।

2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख

© भारतीय रिज़र्व बैंक । सर्वाधिकार सुरक्षित

दावा अस्‍वीकरणकहाँ क्‍या है |