गैर-बैंकिंग वित्‍तीय कंपनियां

यद्यपि यह भूमिका हमारी गतिविधियों का एक ऐसा पहलू है, जिसके संबंध में स्‍पष्‍ट रूप से कहीं उल्‍लेख तो नहीं है, किंतु अति महत्‍वपूर्ण गतिविधियों की श्रेणी में इसकी गिनती की जाती है। इसके अंतर्गत अर्थव्‍यवस्‍था के उत्‍पादक क्षेत्रों को ऋण उपलब्‍धता सुनिश्चित करना, देश की वित्‍तीय मूलभूत संरचना के निर्माण हेतु संस्‍थाओं की स्‍थापना करना, किफायती वित्‍तीय सेवाओं की सुलभता बढ़ाना तथा वित्‍तीय शिक्षण एवं साक्षरता को बढ़ावा देना आदि शामिल हैं।

अधिसूचनाएं


जुलाई 13, 2022
डीपीआरके पर यूएनएससीआर 1718 प्रतिबंध समिति द्वारा अपनी प्रतिबंध सूची में एक प्रविष्टि में संशोधन
जून 06, 2022
गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी द्वारा मानक आस्तियों के लिए प्रावधान – अपर लेयर
मई 02, 2022
एनबीएफसी की जमाराशियों के लिए न्यूनतम निवेश ग्रेड क्रेडिट रेटिंग की समीक्षा
अप्रैल 29, 2022
एनबीएफसी में मुख्य प्रबंधकीय कार्मिक (केएमपी) और ज्येष्ठ प्रबंधतंत्र के पारिश्रमिक पर दिशानिर्देश
अप्रैल 21, 2022
मास्टर निदेश - क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड - जारी और आचार संबंधी निदेश, 2022
उधारकर्ताओं के लिए विधिक इकाई पहचानकर्ता (एलईआई)
अप्रैल 19, 2022
गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी-अपर लेयर (एनबीएफ़सी-यूएल) के लिए बृहद एक्सपोज़र ढांचा
एनबीएफसी के लिए स्केल आधारित विनियमन (एसबीआर): गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों के लिए पूंजी आवश्यकताएं – अपर लेयर (एनबीएफसी-यूएल)
ऋण और अग्रिम - विनियामकीय प्रतिबंध - गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां
वित्तीय विवरणों में प्रकटीकरण – एनबीएफ़सी के खातों को टिप्पणियां
अप्रैल 11, 2022
मुख्य अनुपालन अधिकारी (सीसीओ) की भूमिका और अनुपालन कार्य
2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख

© भारतीय रिज़र्व बैंक । सर्वाधिकार सुरक्षित

दावा अस्‍वीकरणकहाँ क्‍या है |