बैंकों का बैंक

वैयक्तिक ग्राहकों, कारोबारों और सभी प्रकार के संगठनों की भांति बैंकों को भी निधि अंतरण और अन्‍य बैंकों से उधार लेने या देने तथा ग्राहक के लेनदेनों को पूरा करने के लिए अपनी एक व्‍यवस्‍था ज़रूरी होती है। बैंकों के बैंकर के रूप में रिज़र्व बैंक यह भूमिका अदा करता है।

अधिसूचनाएं


अप्रैल 01, 2022
एजेंसी बैंक द्वारा सरकारी कारोबार के संचालन पर मास्टर परिपत्र – एजेंसी कमीशन का भुगतान
मास्टर परिपत्र - एजेंसी बैंकों द्वारा सरकारी पेंशन का संवितरण
मार्च 24, 2022
सरकारी खातों की वार्षिक लेखाबंदी – केंद्र/राज्य सरकारों के लेनदेन – चालू वित्तीय वर्ष (2021-22) के लिए विशेष उपाय
फरवरी 24, 2022
मार्च 2022 के केंद्रीय सरकार के लेनदेनों की लेखांकन और रिपोर्टिंग
दिसंबर 15, 2021
सरकारी एजेंसी कारोबार/बिजनेस की व्‍यवस्‍था - अनुसूचित निजी क्षेत्र के बैंकों को भारतीय रिज़र्व बैंक का एजेंसी बैंक के रूप में नियुक्ति
अगस्त 02, 2021
राज्‍य सरकार के खातों का रखरखाव/अनुरक्षण - अत्‍याधिक दिए गए (पुट थ्रू)/दोहरे दावों (राज्‍य सरकार लेनदेन) पर ब्‍याज की वसूली
मई 10, 2021
सरकारी एजेंसी कारोबार/बिजनेस की व्‍यवस्‍था - अनुसूचित निजी क्षेत्र के बैंकों को भारतीय रिज़र्व बैंक का एजेंसी बैंक के रूप में नियुक्ति
अप्रैल 07, 2021
मार्च 2021 के केंद्रीय सरकार के लेनदेनों की लेखांकन और रिपोर्टिंग - तिथि में बदलाव
2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख

© भारतीय रिज़र्व बैंक । सर्वाधिकार सुरक्षित

दावा अस्‍वीकरणकहाँ क्‍या है |