सरकार का बैंक और ऋण प्रबंधक

सरकार के बैंकिंग लेनदेनों का प्रबंध करना रिज़र्व बैंक की प्रमुख भूमिका है। सरकार को व्‍यक्ति, कारोबार और बैंकों की भांति अपने वित्‍तीय लेनदेनों, जिसके अंतर्गत जनता से संसाधनों का जुटाया जाना भी शामिल है, को दक्षतापूर्वक और प्रभावी तरीके से पूरा करने के लिए एक बैंकर की आवश्‍यकता पड़ती है।

भाषण


नवंबर 12, 2021
12 नवंबर 2021 को माननीय प्रधान मंत्री द्वारा आरबीआई- रीटेल डायरेक्ट योजना और रिज़र्व बैंक-एकीकृत लोकपाल योजना का शुभारंभ - श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा स्वागत भाषण
अक्टूबर 25, 2021
आधुनिक वित्तीय प्रणाली में लेखापरीक्षा की भूमिका - श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा - 25 अक्तूबर 2021 को - नेशनल एकेडमी ऑफ ऑडिट एंड अकाउंट्स (एनएएए), शिमला में दिया गया भाषण 227.00 kb
अगस्त 31, 2018
राज्य सरकार की बाजार उधारियाँ – मुद्दे और संभावनाएं –बी.पी.कानूनगो 293.00 kb
सितंबर 03, 2014
वित्त, ऋण एवं बाजार – आर. गांधी 96.00 kb
अगस्त 12, 2014
सरकारी कर्ज प्रबंधन : रणनीति एवं संरचना के संबंध में चिंतन – हरून आर. खान 398.00 kb
2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख

© भारतीय रिज़र्व बैंक । सर्वाधिकार सुरक्षित

दावा अस्‍वीकरणकहाँ क्‍या है |