अनुसंधान और आंकड़े

रिज़र्व बैंक में बेहतर, नीति उन्मुखी आर्थिक शोध करने, आंकड़ों का संकलन करने और ज्ञान साझा करने की समृद्ध परंपरा है।

भाषण


नवंबर 15, 2021
दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स (डीएसई) और इंडियन स्टेटिस्टिकल इंस्टीट्यूट (आईएसआई), दिल्ली द्वारा आयोजित ब्रिक्स अर्थव्यवस्थाओं में संवृद्धि और विकास पर सम्मेलन में माइकल देवव्रत पात्रा, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा दिया गया मुख्य भाषण 257.00 kb
सितंबर 22, 2021
कोविड के बाद: एक मजबूत, समावेशी और टिकाऊ अर्थव्यवस्था की ओर - श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर, भारतीय रिजर्व बैंक- द्वारा 22 सितंबर 2021, बुधवार को ऑल इंडिया मैनेजमेंट एसोसिएशन (AIMA) के 48 वें राष्ट्रीय प्रबंधन सम्मेलन में दिया गया मुख्य भाषण 243.00 kb
जनवरी 07, 2020
भारत में समावेशी विकास की ओर यात्रा - शक्तिकांत दास 246.00 kb
जनवरी 24, 2019
सूक्ष्म ऋण और कैसे कोई लोक ऋण रजिस्ट्री इसे सुदृढ़ कर सकता है इसके संबंध में कुछ विचार - विरल वी. आचार्य 370.00 kb
अगस्त 20, 2018
लोक ऋण रजिस्ट्री और माल एवं सेवा कर नेटवर्क : भारत में ऋण को सर्वसुलभ एवं औपचारिक बनाने के लिए लंबे कदम भरना – विरल वी. आचार्य 466.00 kb
जनवरी 15, 2018
बैंकों में ब्याज दर जोखिम को समझना और प्रबंध करना - विरल आचार्य 605.00 kb
दिसंबर 15, 2017
वित्तीय प्रणाली और समष्टि अर्थव्यवस्था पर कैफराल सम्मेलन : उद्घाटन वक्त्व्य - उर्जित आर पटेल 146.00 kb
जुलाई 06, 2017
भारत में लोक ऋण रजिस्ट्री - विरल वी आचार्य 191.00 kb
जनवरी 11, 2017
भारत में आईएफएससी की कारोबारी क्षमताओं के मैक्रो एवं माइक्रो संचालक - ऊर्जित आर पटेल 166.00 kb
सितंबर 03, 2016
केंद्रीय बैंक की आजादी - रघुराम जी.राजन 164.00 kb
2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख

© भारतीय रिज़र्व बैंक । सर्वाधिकार सुरक्षित

दावा अस्‍वीकरणकहाँ क्‍या है |