अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न


नोट :  कृपया अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के लिये नीचे अपनी पसंद की लिंक पर क्लिक करें । आप किसी विशेष विभाग से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों की सूची देखने के लिये दाएं पैनल पर सूचीबद्ध खोज विकल्प का उपयोग भी कर सकते हैं ।

गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी - पीयर टू पीयर लेंडिंग प्लेटफॉर्म

क्रम संख्या 1 - एनबीएफसी-पी2पी निदेश, 2017 के पैरा 4(1)(iv) में उल्लिखित शब्द ‘व्यक्ति’ का क्या अर्थ है? क्या इसमें बैंक/एनबीएफसी भी शामिल होंगे ?

उत्तर: उक्त निदेश के पैरा 4(1)(iv) के प्रयोजनों के लिए, 'व्यक्ति' शब्द में व्यक्ति, व्यक्तियों का समूह, एचयूएफ, फर्म, समाज या कोई कृत्रिम संस्था शामिल होगी, चाहे वह निगमित हो अथवा नही।

क्रम संख्या 2. क्या बैंकों और/या एनबीएफसी के लिए सीधे सर्विस एजेंट(डीएसए) /कारोबार प्रतिनिधि के रूप में सेवारत इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म एनबीएफसी-पी2पी निदेश के दायरे में आते हैं?

उत्तर: उधारकर्ताओं की पहचान करने के लिए केवल बैंकों, एनबीएफसी और अन्य विनियमित एआईएफआईज की सहायता करने वाले इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्मस को पी2पी प्लेटफॉर्म नही माना जाएगा। हालांकि, ऐसे मामलों में जहां बैंकों या एनबीएफसी या एआईएफआईज के अलावा अन्य खुदरा ऋणदाता ऋण देने के लिए उक्त प्लेटफॉर्म का उपयोग करते हैं, तो उस प्लेटफॉर्म को एनबीएफसी-पी2पी के रूप में अलग से पंजीकरण करना होगा।

क्रम संख्या 3. एनबीएफसी-पी2पी लेंडिंग प्लेटफॉर्म के मामले में लीवरेज को कैसे परिभाषित किया गया है?

उत्तर: लीवरेज अनुपात एनबीएफसी-पी2पी प्लेटफॉर्म की बैलेंस शीट पर प्राप्त बाहरी देयताओं को उसके स्वाधिकृत निधियों द्वारा विभाजित करके प्राप्त होता है। प्लेटफॉर्म का उपयोग करके ऋण दिये गए /लिए गए ग्राहकों की निधि को प्लेटफॉर्म के बाहरी देयता के रूप में नहीं गिना जाएगा।

क्रम संख्या. 4. निवेशयोग्य निधियों का क्या अर्थ है?

उत्तर: निवेशयोग्य फंड का तात्पर्य है एनबीएफसी-पी2पी के व्यवसाय में लगाई गई पूंजी और व्यवसाय से प्राप्त अधिशेष। इसमें उधारदाताओं और उधारकर्ताओं की निधियाँ शामिल नहीं हैं जो एस्क्रो खातों के माध्यम से आदान-प्रदान की जाती हैं। प्लेटफॉर्म का उपयोग करके ऋण दिये गए/लिए गए ग्राहकों की निधि का उपयोग प्लेटफॉर्म द्वारा नहीं किया जा सकता।

क्रम सं. 5: क्या एनबीएफसी-पी2पी पंजीकरण के आवेदकों को आवेदन करने के समय आरंभ में ही 2 करोड़ रुपये लाने की जरूरत है?

उत्तर: आवेदक को प्रायोजकों की सूची और 2 करोड़ रुपये की न्यूनतम पूंजी के लिए निधि के स्रोत का विवरण देना होगा। सीओआर जारी करने से पहले पूंजी डाल दे जानी चाहिए। इस दौरान प्रायोजकों में बदलाव की अनुमति नहीं है।

क्रम संख्या 6: क्या मौजूदा एनबीएफसी एनबीएफसी-पी2पी के रूप में काम कर पाएगी?

उत्तर: नही।


2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख

© भारतीय रिज़र्व बैंक । सर्वाधिकार सुरक्षित

दावा अस्‍वीकरणकहाँ क्‍या है |